Motivational

मूड ख़राब से निकलने के 3 कामयाब तरीके

आपके पास भले ही कितना ही टैलेंट क्यों न हो, बहुत चीज जानते हो, बहुत काबिलियत है आपके अंदर, सपने भी हैं बड़े-बड़े और उनको सच करने की इच्छा भी बहुत बड़ी है, लेकिन ये आप सब लोग देखते होंगे कि जब मूड खराब होता है, इरिटेशन होती है, मन चिड़चिड़ा होता है, फिर भले आपने वही काम किया जो आपको पसंद है, फिर भी उसे नहीं कर पाओगे। और जब मूड अच्छा होता है, यानी एक्टिव फील करते हैं, तब सोचने का तरीका, काम करने का तरीका सब अलग होता है।

ये जिसके साथ में होता है, वह इसे अच्छे से रिलेट कर पा रहा होगा। मूड के खराब होने का साइंस के अकॉर्डिंग क्या कारण है? साइंस कहती है कि कोई भी इफेक्ट बिना वजह का नहीं हो सकता, उसी तरह से आपके मूड के खराब होने की भी कोई ना कोई वजह हो सकती है। जैसे आपको खाना टाइम पर नहीं मिला, सर्विस या प्रोडक्ट सही नहीं मिला, जैसे इंटरनेट। किसी ने कुछ कह दिया इत्यादि।

 

ऐसे में फिर इरिटेशन बढ़ने लग जाती है, गुस्सा आ जाता है, मन पूरा अशांत हो जाता है। इसका उपाय क्या है? मन को शांत कैसे करें? मन जब शांत होता है तो कितना अच्छा फील होता है। शरीर एनर्जी से भर जाता है। काम को भी एकदम फोकस के साथ में करते हैं। फिर मन बार बार भटकता नहीं है। खराब मूड में भटकता है। मन बड़बड़ करता रहता है। अंदर ही अंदर कंप्लेंट कर रहे होते हैं, जब मूड खराब होता है।

आप को भले कितनी ही चीज पता हैं, कि कंप्लेंट नहीं करनी चाहिए, आपकी पर्सनैलिटी खराब होती है, सबके साथ में अच्छा बिहेव करना चाहिए, स्माइल करते रहना चाहिए, पॉजिटिव सोचना चाहिए। यह सब चीजें हम भूल जाते हैं, जब हमारा मूड खराब होता है। मन में उथल-पुथल हो रखी है, वो धीरे धीरे बढ़कर गुस्से में बदल जाता है। जो आपकी हेल्थ के लिए सही नहीं है। सफलता और रिलेशनशिप के लिए भी सही नहीं है।

सक्सेसफुल होने के लिए आपका फोकस में रहना बहुत जरूरी है। मूड अच्छा होगा तभी काम अच्छा होगा। तो आइए जानते हैं मूड को मस्त करने के लिए हम क्या कर सकते हैं।

 मूड खराब से कैसे निकलें

खाना और व्यायाम

जब बॉडी को प्रॉपर पोषक तत्व (Nutrients) नहीं मिलते हैं तो बहुत इफेक्ट करता है आपके मूड को। हम सोचते हैं कि जो प्रॉब्लम आ रही है उसकी वजह से मेरा मूड खराब है, बल्कि वास्तव में हो सकता है कुछ मामलों में वो प्रॉब्लम की वजह से आपका मूड खराब नहीं हो रहा है। बस आप खाना प्रॉपर नहीं ले रहे हो, तो अपने फ़ूड पर ध्यान दो और एक्सरसाइज करो। जिससे आपका ब्लड मूव करता रहे।

एक छोटी सी वॉक करने की रेगुलर रूटीन बनाते हैं, तो उससे भी काफी इफ़ेक्ट हो सकता है। एक्सरसाइज से एंडोर्फिन बढ़ जाते हैं और कुछ ही मिनट में मूड सही हो जाता है। तो आप एक्सरसाइज करके अपने एंडोर्फिन को बढ़ा सकते हैं। क्योंकि जब एक्सरसाइज करते हैं तो सांस लेने में डिफिकल्टी होती है, जिससे फिर बॉडी एंडोर्फिन रिलीज करती है, जो कि आपकी खुशी वाली फीलिंग से जुड़ी है।

क्रिएटिव करो और लिखो

बिगड़े हुए मूड में काम करने की या पढ़ने की इच्छा नहीं होती है। यानि जिससे मेंटल एफर्ट लगाना पड़े, जिससे दिमाग पर जोर लगाना पड़े, वो नहीं होता। सबसे बेस्ट है अपने बेड मूड का फायदा लो यानी कि क्रिएटिव चीजें करो।

 

जब भी मूड ऑफ होता है, रिसर्चर्स ने बताया है कि उस वक्त आप और क्रिएटिव बन जाते हो। क्रिएटिव जैसे की ड्राइंग बना ली, अपने मोबाइल में कुछ एडिट कर लिया, जिससे हो सकता है आपकी इमोशंस पॉजिटिव हो जाए।

या फिर लिखो, मूड ऑफ के वक्त कभी भी लिखने बैठना आपके दिमाग में लिखने के लिए ऐसे ऐसे विचार आएंगे कि आपका पूरा ध्यान उस बात को पेपर में उतारने में लग जाएगा। आपको मजा आएगा। ऐसा लगेगा आप पूरी भड़ास किसी को सुना रहे हो।

किसी के लिए अच्छा करो

किसी के लिए जब अच्छा कर देते हैं और आपकी वजह से सामने वाला खुश हो जाता है, तो अपने आप आपको अच्छा फील होना शुरू हो जाएगा। फिर भले आपका मूड खराब हो। आप किसी के लिए अच्छा करते हो, तो ना केवल आप दूसरों के लिए अच्छा कर रहे हो, बल्कि आप खुद के लिए भी अच्छा कर रहे हो।

किसी की हेल्प करने से आपका मूड अच्छा हुआ, आपका मूड अच्छा हुआ तो आप का काम अच्छा होगा, आपका मूड अच्छा हुआ तो आपकी हेल्थ अच्छी होगी, आपका मूड अच्छा हुआ तो आपके रिलेशनशिप अच्छे होंगे। अभी आप ये पढ़ रहे हो न जाने कितने लोग खराब मूड से निकल रहे होंगे। इसे ज्यादा से ज्यादा शेयर करो ताकि ये उन तक पहुंच सके जो डिप्रेशन में हैं। कमेंट करके बताएं आपको इस पोस्ट से हेल्प हुई या नहीं।

Source
CoolMitra

Related Articles

One Comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.