Hindi Poems

वातावरण पर बहुत ही अच्छी कवितायेँ

⭐ Poem on environment in hindi ⭐


💦 Poem on environment in hindi  💦

मिलकर आज ये कसम खाते हैं,

पर्यावरण को स्वच्छ बनाते है।

मिलकर आज ये कसम खाते हैं,

प्रदूषण को दूर भगाते हैं।

मानव तूने अपनी जरूरतों के लिए,

वातावरण को कितना दूषित किया है,

फिर भी पर्यावरण ने तुझे सब कुछ दिया है।

प्राण दायनी तत्वों जल, वायु और मिट्टी से,

हमारा जीवन का उद्दार किया है।

फिर भी मानव पेड़ काटता है,

अपने जीवन को संकट में डालता है।

पर्यावरण न होता तो जीवन मे रंग कहाँ से होते,

पर्यावरण को स्वच्छ बनाये हमारा प्रथम कर्त्तव्य है।

आओ मिलकर कसम खात हैं,

पर्यावरण को स्वच्छ बनाते हैं।

आज मिलकर कसम खाते है,

प्रदूषण को दूर भगाते हैं।

Milkar aaj ye kasam khate hain,
pryavaran ko swachh banate hain.
Milkar aaj ye kasam khate hain,
prdushan ko door bhagate hain.
Manav tune apni jaruraton ke liye,
vatavaran ko kitna dooshit kiya hai,
Phir bhi pravaran ne tujhe sab kuchh diya hai.
Praan dayani tatvon jal, vayu aur mitti se,
hamara jeevan ka uddar kiya hai.
Phir bhi maanav ped kat ta hai,
apne jeevan ko sankat me dalta hai.
Pravaran na hota to jeevan me rang kahaan se hote,
Pravaran ko swachh banaye hamara prtham kartabay hai.
Aao milkar kasam khate hain,
pravaran ko swachh banate hain.
Aaj milkar kasam khate hain,
prdushan ko door bhagate hain.

1 2Next page

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.