Motivational

आज से समय की कद्र करने लगोगे

समय

जब हम मिट्टी को हाथ में लेकर मुट्ठी बंद करते हैं, तो हम चाहे कितनी भी कोशिश कर लें, मिट्टी हाथों से फिसलती जाती है, और धीरे-धीरे सारी मिट्टी अपने हाथों से निकल जाती है।

दोस्तों समय का भी कुछ ऐसा ही दस्तूर है, उसको चाहे कितना भी रोकने की कोशिश कर लो, कितना भी पकड़ने की कोशिश कर लो, वो हाथों से निकलता जाता है फिसलता जाता है। बस अगर कुछ बचता है तो बस हमारी मेहनत और लगन से जो हमने इस वक्त में हासिल किया, जिस वक़्त को हमने अपने हिसाब से बिता लिया। समय की खासियत है कि वो बीतता जरूर है। वक़्त बीत जाता है और हम देखते रह जाते हैं। हम सोचते रहते हैं वक़्त आएगा तो ये करेंगे वक़्त आएगा तो वो करेंगे, लेकिन वक़्त आता नही वक़्त तो जाता रहता है।
दोस्तों वक़्त आता नहीं है वक़्त को लाना पड़ता है।

कोई भी बड़ा इंसान वक्त के भरोसे बैठकर बड़ा नहीं बना। बल्कि न तो वो वक्त से पीछे चला, न वक्त के साथ चला बल्कि वो वक़्त से आगे चला। और फिर वक्त उसके हिसाब से चला। दोस्तों हम सब कुछ वापस पा सकते हैं, लेकिन वक्त ऐसी चीज है, जो चला जाए तो वापस नहीं आता। और कड़वा सच यही है कि, हम अगर किसी चीज को अपनी जिंदगी में सबसे ज्यादा गंवाते हैं, वह वक़्त ही है। और फिर वक्त बीत जाने पर सोचते हैं, कि काश मैंने यह कर लिया होता काश वह वक्त गवाया नहीं होता, काश उस वक्त को मैंने अपने हिसाब से चलाया होता, तो आज जिंदगी कुछ और होती।

ये काश वक्त का सबसे बेकार कतरा है ये काश हमे आकाश छूने से रोकता है। ख़ैर जो वक्त बीत गया वह तो वापस नहीं आ सकता। पर वक्त अभी भी है। जब जागो तब सवेरा। जब चाहो तब शुरुआत कर सकते हो। पर उसके लिए कदम बढ़ाना जरूरी है।

वरना एक वक्त ऐसा भी आएगा जब लगेगा कि जो मैं करना चाहता था उसके लिए वक़्त ही नही बचा।
दोस्तों अभी भी वक़्त है अपने सपनों के लिए कदम बढ़ाओ हिम्मत जुटाओ क्योंकि

वक्त सबको मिलता है जिंदगी बदलने के लिए लेकिन जिंदगी दोबारा नहीं मिलती वक्त बदलने के लिए। Azam

बात अच्छी लगे तो लाइक पर क्लिक करें और दिल में कोई बात हो तो Comment करें.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Close
%d bloggers like this: