Dard Bhari Shayari Image 09

  • Version
  • Download 35
  • File Size 895.83 KB
  • File Count 1
  • Create Date January 25, 2020
  • Last Updated January 25, 2020

खून बन कर मुनासिब नहीं दिल बहे;
दिल नहीं मानता कौन दिल से कहे;
तेरी दुनिया में आये बहुत दिन रहे;
सुख ये पाया कि हमने बहुत दुःख सहे।

Back to top button