Sad Shayari Image 07

  • Version
  • Download 58
  • File Size 450.14 KB
  • File Count 1
  • Create Date January 25, 2020
  • Last Updated January 25, 2020

मंजिल भी उसकी थी, रास्ता भी उसका था,
एक मैं ही अकेला था, बाकि सारा काफिला भी उसका था,
एक साथ चलने की सोच भी उसकी थी,
और बाद में रास्ता बदलने का फैसला भी उसी का था।

Back to top button