Hindi Status

खेल चाहे जिंदगी का हो या हो ताश का,
अपना इक्का तभी निकालना चाहिये,
जब सामने बाला बादशाह हो।


हम तो फूलों की तरह अपनी आदत से मजबूर हैं,
तोड़ने बाले को भी महकने की सजा देते हैं।


जिनकी सोच छोटी होती है वही लोग बुराई किया करते हैं,
बड़ी सोच बाले तो माफ़ किया करते हैं।


हम तो वक्त और हालात के साथ अपने शौक बदलतें है,दोस्त नही।


हम तो अपना हाथ उस जगह बढ़ातें हैं,
जहाँ जान से ज्यादा जुबान की कीमत लगती हो।


Previous page 1 2 3 4 5 6 7 8 9 10 11 12 13 14 15 16 17 18 19 20 21 22 23 24 25 26 27 28 29 30 31 32 33 34 35 36 37 38 39 40 41 42 43 44 45 46 47 48 49 50 51 52 53 54 55 56 57Next page

Related Articles

Back to top button
;
Close