WhatsApp Shayari

❤ WhatsApp Shayari ❤

गम की परछाईयाँ यार की रुसवाईयाँ,
वाह रे मुहोब्बत ! तेरे ही दर्द और तेरी ही दवाईयां।

WhatsApp Shayari


तेरी ख़ुशी की खातिर मैंने कितने ग़म छिपाए,
अगर मैं हर बार रोता तो तेरा शहर डूब जाता।

WhatsApp Shayari


इश्क़ में कोई खोज नहीं होती,
यह हर किसी से हर रोज नहीं होती,
अपनी जिंदगी में हमारी मौजूदगी को बेवजह मत समझना,
क्योंकि पलके कभी आँखों पर बोझ नहीं होती..!!

WhatsApp Shayari


मैं ख़ामोशी तेरे मन की, तू अनकहा अलफ़ाज़ मेरा,
मैं एक उलझा लम्हा, तू रूठा हालात मेरा।

WhatsApp Shayari


💦 WhatsApp Shayari In Hindi 💦

वो अक्सर देता है मुझे मिसाल परिंदों की,
साफ़-साफ़ नहीं कहता के मेरा शहर छोड़ दो।

WhatsApp Shayari

Previous page 1 2 3 4 5 6 7 8 9 10Next page

Related Articles

3 Comments

Back to top button
Close