Gareebi Shayari In Hindi

जैसा की आप सभी जानते है हम आपके लिए रोज़ नई शायरी लेकर आते रहते है ऐसे ही आज हम आपके लिए
Gareebi Shayari In Hindi लेकर आय है दोस्तों आपको यह पे Gareebi Shayari In Hindi, Gareebi
Shayari In Hindi 2022, हिंदी में गैरीबी शायरी आदि मिलेगी आप इन सभी को पड़ने के साथ साथ डाउनलोड
भी कर सकते है।

गरीबी पर शायरी |

Downlowd Sad Shayari :- Click Here

Gareebi Shayari In Hindi

Gareebi Shayari

गरीबों की औकात ना पूछो तो अच्छा है,
इनकी कोई जात ना पूछो तो अच्छा है।
चेहरे कई बेनकाब हो जायेंगे ,
ऐसी कोई बात ना पूछो तो अच्छा है।

फ़ेक रहे तुम खाना क्योंकि,
आज रोटी थोड़ी सूखी है,
थोड़ी इज्ज़त से फेंकना साहेब,
मेरी बेटी कल से भूखी है।

ये गंदगी तो महल वालों
ने फैलाई है साहब,
वरना गरीब तो सड़कों
से थैलीयाँ तक उठा लेते हैं

राहों में कांटे थे फिर भी
वो चलना सीख गया,
वो गरीब का बच्चा था
हर दर्द में जीना सीख गया।

मरहम लगा सको तो किसी
गरीब के जख्मों पर लगा देना ,
हकीम बहुत हैं बाजार

में अमीरों के इलाज खातिर।

Gareebi Shayari

इसे नसीहत कहूँ या
जुबानी चोट साहब
एक शख्स कह गया
गरीब मोहब्बत नहीं करते

साथ सभी ने छोड़ दिया,
लेकिन ऐ-गरीबी,
तू इतनी वफ़ादार कैसे निकली।

शाम को थक कर टूटे
झोपड़े में सो जाता है
वो मजदूर,
जो शहर में ऊंची इमारतें बनाता है

घर में चुल्हा जल सकें इसलिए
कड़ी धूप में जलते देखा है,
हाँ मैंने ग़रीब की साँसों को
भी गुब्बारों में बिक़ते देखा है।

बहुत जल्दी सीख लेता हूँ
जिंदगी का सबक
गरीब बच्चा हूँ
बात-बात पर जिद नहीं करता

गरीबी की भी क्या
खूब हँसी उड़ायी जाती है,
एक रोटी देकर 100
तस्वीर खिंचवाई जाती है।

Gareebi Shayari  in hindi

भूख ने निचोड़ कर रख दिया है जिन्हें ,
उनके तो हालात ना पूछो तो अच्छा है।
मज़बूरी में जिनकी लाज लगी दांव पर ,
क्या लाई सौगात ना पूछो तो अच्छा है।

हवस दिन-रात सोने की दुकानों पर
गरीबी कान छिदवाती है
तिनके डाल देती है

थोड़े से लिबास में ख़ुश रहने का हुनर रखते हैं,
हम गरीब हैं साहब,
अलमारी में तो खुद को कैद करते हैं।

Gareebi Shayari In Hindi

Gareebi Shayari

घर में चूल्हा जल सके इसलिए
कड़ी धूप में जलते देखा है ,
हाँ मैंने गरीब की सांस
को गुब्बारों में बिकते देखा है।

अमीरी का हिसाब तो
दिल देख के कीजिये साहब
वरना गरीबी तो
कपड़ो से ही झलक जाती है

खुले आसमां के नीचे सोकर
भी अच्छे सपने पा लेते है,
हम गरीब है साहेब थोड़े
सब्जी में भी 4 रोटी खा लेते है।

गरीब लहरों पे पहरे बैठाय जाते हैं ,
समंदर की तलाशी कोई नही लेता।

सुला दिया माँ ने
भूखे बच्चे को ये कहकर,
परियां आएंगी
सपनों में रोटियां लेकर।

Gareebi Shayari

तहजीब की मिसाल
गरीबों के घर पे है
दुपट्टा फटा हुआ है
मगर उनके सर पे है

रजाई की रूत गरीबी
के आँगन दस्तक देती है,
जेब गर्म रखने वाले ठंड से नही मरते।

खिलौना समझ कर खेलते जो रिश्तों से ,
उनके निजी जज्बात ना पूछो तो अच्छा है।
बाढ़ के पानी में बह गए छप्पर जिनके ,
कैसे गुजारी रात ना पूछो तो अच्छा है।

अमीर की बेटी पार्लर
में जितना दे आती है
उतने में गरीब की बेटी
अपने ससुराल चली जाती है

हर गरीब की थाली में खाना है,
अरे हाँ ! लगता है

यह चुनाव का आना है।

Gareebi Shayari

ऐ सियासत… तूने भी
इस दौर में कमाल कर दिया,
गरीबों को गरीब
अमीरों को माला-माल कर दिया।

खुदा के दिल को भी सुकून आता होगा,
जब कोई गरीब चेहरा मुस्कुराता होगा।

वो जिनके हाथ में
हर वक्त छाले रहते हैं,
आबाद उन्हीं के
दम पर महल वाले रहते हैं

कतार बड़ी लम्बी थी,
के सुबह से रात हो गयी,
ये दो वक़्त की रोटी आज
फिर मेरा अधूरा ख्वाब हो गयी।

जब भी देखता हूँ
किसी गरीब को हँसते हुए,
यकीनन खुशिओं
का ताल्लुक दौलत से नहीं होता।

बहुत जल्दी सीख लेते हैं,
ज़िन्दगी के सबक,
गरीब के बच्चे बात
बात पर जिद नहीं करते।

Gareebi Shayari

रोज़ शाम मैदान में बैठ
ये कहतें हुए एक बच्चा रोता है,
हम गरीब है
इसलिए हम गरीब का कोई दोस्त नही होता है।

एक ज़िंदगी सड़कों पर,
एक महलों में बसर करती है,
कोई बेफिक्र सोता है
कहीं मुश्किल से गुज़र होती है।

कैसे बनेगा अमीर वो
हिसाब का कच्चा भिखारी,
एक सिक्के के बदले
जो बीस किमती दुआ देता हैं।

Gareebi Shayari In Hindi

Gareebi Shayari

घटाएं आ चुकी हैं आसमां पे…
और दिन सुहाने हैं
मेरी मजबूरी तो देखो
मुझे बारिश में भी काग़ज़ कमाने हैं

कही बेहतर है तेरी अमीरी से मुफसिली मेरी।
चंद सिक्के के ख़ातिर तू ने क्या नहीं खोया हैं।
माना नहीं है मखमल का बिछौना मेरे पास।
पर तू ये बता कितनी राते चैन से सोया है।

ड़ोली चाहे अमीर के
घर से उठे चाहे गरीब के
चौखट एक बाप की ही सूनी होती है

बात मरने की भी हो
तो कोई तौर नहीं देखता,
गरीब, गरीबी के
सिवा कोई दौर नहीं देखता।

Gareebi Shayari  in english

उन घरो में जहाँ मिट्टी कि घड़े रखते हैं।
कद में छोटे मगर लोग बड़े रखते हैं।

मैं कई चूल्हे की आग से भूखा उठा हूँ,
ऐ रोटी अपना पता बता,
तू जहाँ बर्बाद होती हैं।

ठहर जाओ भीड़ बहुत है,
तुम गरीब हो
कुचल दिए जाओगे।

ना जाने मेरा मज़हब क्या है ।
ना हिंदू हु ना मुसलमान
लोग मुझे गरीब कहते हैं

वो राम की खिचड़ी भी खाता है,
रहीम की खीर भी खाता है
वो भूखा है जनाब उसे
कहाँ मजहब समझ आता है

मेरे हिस्से की रोटी
सीधा मुझे दे दे ऐ खुदा,
तेरे बंदे तो बड़ा ज़लील करके देते हैं।

गरीब नहीं जानता क्या है
मज़हब उसका
जो बुझाए पेट की
आग वही है रब उसका

ग़रीब सियासत का
सबसे पसंदीदा खिलौना है,
उसे हर बार मुद्दा
बनाया जाता है हुकूमत के लिए।

अजीब मिठास है
मुझ गरीब के खून में भी,
जिसे भी मौका मिलता है
वो पीता जरुर है

खाली पेट सोने का दर्द
क्या होता मुझे नही पता,
ना जाने जूठन खा के
वो बच्चे कैसे बड़े हो जाते।

मैं क्या महोब्बत करूं किसी से,
मैं तो गरीब हूँ
लोग अक्सर बिकते हैं,
और खरीदना मेरे बस में नहीं

वो तो कहो मौत
सबको आती है वरना,
अमीर लोग कहते गरीब था
इसलिए मर गया।

वो रोज रोज नहीं जलता साहब ,
मंदिर का दिया थोड़े ही है
गरीब का चूल्हा है।

कभी निराशा कभी प्यास है
कभी भूख उपवास,
कुछ सपनें भी फुटपाथों
पे पलते लेकर आस।

कभी आँसू तो कभी खुशी बेचीं ,
हम गरीबों ने बेकसी बेची।
चंद सांसे खरीदने के लिए ,
रोज़ थोड़ी सी जिंदगी बेचीं।

Gareebi Shayari

गरीबी लड़तीं रही
रात भर सर्द हवाओं से,
अमीरी बोली वाह
क्या मौसम आया है।

Gareebi Shayari :- Click Here

Gareebon Kee Aukaat Na Poochho To Achchha Hai,
Inakee Koee Jaat Na Poochho To Achchha Hai.
Chehare Kaee Benakaab Ho Jaayenge ,
Aisee Koee Baat Na Poochho To Achchha Hai.

Fek Rahe Tum Khaana Kyonki, Aaj Rotee Thodee Sookhee Hai,
Thodee Ijzat Se Phenkana Saaheb,
Meree Betee Kal Se Bhookhee Hai.
Ye Gandagee To Mahal Vaalon Ne Phailaee Hai Saahab,

Varana Gareeb To Sadakon Se Thaileeyaan Tak Utha
Lete Hain Raahon Mein Kaante The Phir Bhee Vo Chalana Seekh Gaya,

Vo Gareeb Ka Bachcha Tha Har Dard Mein Jeena Seekh Gaya.
Maraham Laga Sako To Kisee Gareeb Ke Jakhmon Par Laga Dena ,

Hakeem Bahut Hain Baajaar Mein Ameeron Ke Ilaaj Khaatir.
Ise Naseehat Kahoon Ya Jubaanee Chot Saahab Ek Shakhs
Kah Gaya Gareeb Mohabbat Nahin Karate Saath Sabhee Ne Chhod Diya,
Lekin Ai-Gareebee, Too Itanee Vafaadaar Kaise Nikalee.

Shaam Ko Thak Kar Toote Jhopade Mein So Jaata Hai Vo Majadoor,
Jo Shahar Mein Oonchee Imaaraten Banaata Hai Ghar Mein
Chulha Jal Saken Isalie Kadee Dhoop Mein Jalate Dekha Hai,
Haan Mainne Gareeb Kee Saanson Ko Bhee Gubbaaron
Mein Biqate Dekha Hai. Bahut Jaldee Seekh Leta Hoon

Jindagee Ka Sabak Gareeb Bachcha Hoon Baat-Baat Par
Jid Nahin Karata Gareebee Kee Bhee Kya Khoob Hansee Udaayee
Jaatee Hai, Ek Rotee Dekar 100 Tasveer Khinchavaee Jaatee Hai.
Bhookh Ne Nichod Kar Rakh Diya Hai Jinhen ,

Gareebi Shayari

Unake To Haalaat Na Poochho To Achchha Hai.
Mazabooree Mein Jinakee Laaj Lagee Daanv Par ,
Kya Laee Saugaat Na Poochho To Achchha Hai.
Havas Din-Raat Sone Kee Dukaanon Par Gareebee Kaan
Chhidavaatee Hai Tinake Daal Detee Hai Thode Se
Libaas Mein Khush Rahane Ka Hunar Rakhate Hain,
Ham Gareeb Hain Saahab,
Alamaaree Mein To Khud Ko Kaid Karate Hain.

Garaiaibi Shayari In Hindi

Gareebi Shayari  in english

Ghar Mein Choolha Jal Sake Isalie Kadee Dhoop
Mein Jalate Dekha Hai , Haan Mainne Gareeb Kee

Saans Ko Gubbaaron Mein Bikate Dekha Hai.
Ameeree Ka Hisaab To Dil Dekh Ke Keejiye Saahab
Varana Gareebee To Kapado Se Hee Jhalak Jaatee Hai
Khule Aasamaan Ke Neeche Sokar Bhee Achchhe Sapane Pa Lete Hai,

Ham Gareeb Hai Saaheb Thode Sabjee Mein Bhee
4 Rotee Kha Lete Hai. Gareeb Laharon Pe Pahare Baithaay
Jaate Hain , Samandar Kee Talaashee Koee Nahee Leta.
Sula Diya Maan Ne Bhookhe Bachche Ko Ye Kahakar,

Pariyaan Aaengee Sapanon Mein Rotiyaan Lekar.
Tahajeeb Kee Misaal Gareebon Ke Ghar Pe Hai Dupatta
Phata Hua Hai Magar Unake Sar Pe Hai Rajaee Kee Root
Gareebee Ke Aangan Dastak Detee Hai, Jeb Garm Rakhane

Vaale Thand Se Nahee Marate. Khilauna Samajh Kar Khelate
Jo Rishton Se , Unake Nijee Jajbaat Na Poochho To Achchha Hai.
Baadh Ke Paanee Mein Bah Gae Chhappar Jinake ,
Kaise Gujaaree Raat Na Poochho To Achchha Hai.

Ameer Kee Betee Paarlar Mein Jitana De Aatee Hai Utane
Mein Gareeb Kee Betee Apane Sasuraal Chalee Jaatee Hai
Har Gareeb Kee Thaalee Mein Khaana Hai, Are Haan !
Lagata Hai Yah Chunaav Ka Aana Hai. Ai Siyaasat…

Toone Bhee Is Daur Mein Kamaal Kar Diya,
Gareebon Ko Gareeb Ameeron Ko Maala-Maal Kar Diya.
Khuda Ke Dil Ko Bhee Sukoon Aata Hoga, Jab Koee Gareeb
Chehara Muskuraata Hoga. Vo Jinake Haath Mein Har Vakt

Chhaale Rahate Hain, Aabaad Unheen Ke Dam Par Mahal
Vaale Rahate Hain Kataar Badee Lambee Thee, Ke Subah Se

Raat Ho Gayee, Ye Do Vaqt Kee Rotee Aaj Phir Mera Adhoora
Khvaab Ho Gayee. Jab Bhee Dekhata Hoon Kisee Gareeb Ko
Hansate Hue, Yakeenan Khushion Ka Taalluk Daulat Se Nahin Hota.

Bahut Jaldee Seekh Lete Hain, Zindagee Ke Sabak,
Gareeb Ke Bachche Baat Baat Par Jid Nahin Karate.
Roz Shaam Maidaan Mein Baith Ye Kahaten Hue Ek
Bachcha Rota Hai, Ham Gareeb Hai Isalie Ham Gareeb
Ka Koee Dost Nahee Hota Hai. Ek Zindagee Sadakon Par,

Ek Mahalon Mein Basar Karatee Hai, Koee Bephikr Sota
Hai Kaheen Mushkil Se Guzar Hotee Hai. Kaise Banega
Ameer Vo Hisaab Ka Kachcha Bhikhaaree, Ek Sikke Ke Badale
Jo Bees Kimatee Dua Deta Hain.

Gareebi Shayari

Garaiaibi Shayari In Hindi

Ghataen Aa Chukee Hain Aasamaan Pe…
Aur Din Suhaane Hain Meree Majabooree To Dekho
Mujhe Baarish Mein Bhee Kaagaz Kamaane Hain
Kahee Behatar Hai Teree Ameeree Se Muphasilee Meree.

Chand Sikke Ke Khaatir Too Ne Kya Nahin Khoya Hain.
Maana Nahin Hai Makhamal Ka Bichhauna Mere Paas.
Par Too Ye Bata Kitanee Raate Chain Se Soya Hai.
Gareebee Ke Siva Koee Daur Nahin Dekhata.

Un Gharo Mein Jahaan Mittee Ki Ghade Rakhate Hain.
Kad Mein Chhote Magar Log Bade Rakhate Hain.
Main Kaee Choolhe Kee Aag Se Bhookha Utha Hoon,
Ai Rotee Apana Pata Bata, Too Jahaan Barbaad Hotee Hain.

Gareebi Shayari

Thahar Jao Bheed Bahut Hai, Tum Gareeb Ho Kuchal Die Jaoge.
Na Jaane Mera Mazahab Kya Hai . Na Hindoo Hu Na Musalamaan
Log Mujhe Gareeb Kahate Hain Vo Raam Kee Khichadee Bhee
Khaata Hai, Raheem Kee Kheer Bhee Khaata Hai Vo Bhookha Hai

Janaab Use Kahaan Majahab Samajh Aata Hai Mere Hisse
Kee Rotee Seedha Mujhe De De Ai Khuda, Tere Bande To
Bada Zaleel Karake Dete Hain. Gareeb Nahin Jaanata Kya
Hai Mazahab Usaka Jo Bujhae Pet Kee Aag Vahee Hai
Rab Usaka Gareeb Siyaasat Ka Sabase Pasandeeda Khilau

Use Har Baar Mudda Banaaya Jaata Hai Hukoomat Ke Lie.
Ajeeb Mithaas Hai Mujh Gareeb Ke Khoon Mein Bhee,
Jise Bhee Mauka Milata Hai Vo Peeta Jarur Hai Khaalee
Pet Sone Ka Dard Kya Hota Mujhe Nahee Pata,

Na Jaane Joothan Kha Ke Vo Bachche Kaise Bade Ho Jaate.
Main Kya Mahobbat Karoon Kisee Se, Main To Gareeb Hoon
Log Aksar Bikate Hain, Aur Khareedana Mere Bas Mein Nahin
Vo To Kaho Maut Sabako Aatee Hai Varana, Ameer Log Kahate

Gareeb Tha Isalie Mar Gaya. Vo Roj Roj Nahin Jalata Saahab ,
Mandir Ka Diya Thode Hee Hai Gareeb Ka Choolha Hai.
Kabhee Niraasha Kabhee Pyaas Hai Kabhee Bhookh Upavaas,
Kuchh Sapanen Bhee Phutapaathon Pe Palate Lekar Aas.

Kabhee Aansoo To Kabhee Khushee Becheen ,
Ham Gareebon Ne Bekasee Bechee.
Chand Saanse Khareedane Ke Lie ,
Roz Thodee See Jindagee Becheen.
Gareebee Ladateen Rahee Raat Bhar Sard Havaon Se,
Ameeree Bolee Vaah Kya Mausam Aaya Hai.

Gareebi Shayari In Hindi

दोपहर तक बिक गया
बाजार का हर एक झूठ ,
और एक गरीब सच
लेकर शाम तक बैठा ही रहा।

गरीबी का आलम कुछ
इस कदर छाया है,
आज अपना ही
दूर होता नजर आया है।

Gareebi Shayari :- Click here

गरीबी बन गई तश्हीर का सबब “आमिर” ,
जिसे भी देखो हमारी मिसाल देता है।
जब भी मुझे जियारत करनी होती है ,
मै गरीब लोगो में बैठ आता हूं।

कभी जात कभी समाज
तो कभी औकात ने लुटा,
इश्क़ किसी बदनसीब
गरीब की आबरू हो जैसे।

Gareebi Shayari :- Click Here

जनाजा बहुत भारी था
उस गरीब का,
शायद सारे अरमान
साथ लिए जा रहा था।

जो छिप गए थे चंद
रोज़ की ज़िंदगी कमाने,

मौत ने ढूँढ लिया
उनको मुफ़्लिसी के बहाने।

यहाँ गरीब को मरने की
इसलिए भी जल्दी है साहब,
कहीं जिन्दगी की कशमकश में
कफ़न महँगा ना हो जाए।

अजीब सा जादुई नशा होता है
गरीब की कमाई में,
जिसकी रोटी खाकर पथरीले
रास्तों पर भी सुकून की नींद आ जाती है।

सहम उठते हैं
कच्चे मकान पानी के खौफ से।
महलोंं कि आरजू ये हैं
कि बरसात तेज हो।

बिना किसी गाने के
रेल के इंजन की धुन पर नाचते हैं,
पटरी किनारे बस्ती में बच्चे
अब भी मुस्कराना जानते हैं।

कैसे मुहब्बत करु बहुत गरीब हूँ साहब।
लोग बिकते हैं और मैं खरीद नहीं पाता।

नये कपड़े,
मिठाईयाँ गरीब कहाँ लेते है,
तालाब में चाँद
देखकर ईद मना लेते है।

चेहरा बता रहा था कि मारा हैं भूख ने।
सक कर रहे थे के कुछ खा के मर गया।

Gareebi Shayari

अमीरी पीना सिखाती है,
गरीबी जीना सिखाती है,
कभी घाव हो जाए,तो
कविता सीना सिखाती है।

जो गरीबी में एक दिया
भी न जला सका।
एक अमीर का पटाखा
उसका घर जला गया।

बना के ताजमहल एक दौलतमंद
आशिक ने गरीबों की
मोहब्बत का तमाशा कर दिया।

गरीबों के बच्चे भी
खाना खा सके त्योहारों में।
तभी तो भगवान खुद
बिक जाते हैं बजारो में।

रजाई की रुत गरीबी के
आँगन में दस्तक देती है ,
जेब गरम रखने वाले
ठण्ड से नहीं मरते।

पेट की भूख ने जिंदगी के ,
हर एक रंग दिखा दिए।

जो अपना बोझ उठा ना पाये ,
पेट की भूख ने पत्थर उठवा दिए।

Gareebi Shayari In Hindi

Gareebi Shayari

एै मौत ज़रा पहले आना गरीब के घर ,
कफ़न का खर्च दवाओं में निकल जाता है।

छीन लेता हैं हर चीज़ मुझसे ये खुदा।
क्या तू मुझसे भी ज्यादा गरीब हैं।

बहुत जल्दी सिख लेता हूँ
ज़िन्दगी का सबक।
गरीब बच्चा हूँ
बात बात पर जिद्द नहीं करता।

हमने कुछ ऐसे भी
गरीब देखे हैं ,
जिनके पास पैसों के
अलावा कुछ भी नहीं।

क्या किस्मत पाई है
रोटीयो ने भी निवाला बनकर,
रहिसो ने आधी फेंक दी,
गरीब ने आधी में जिंदगी गुज़ार दी।

जरा सी आहट पर जाग
जाता है वो रातो को।
ऐ खुदा गरीब को बेटी
दे तो दरवाजा भी दे।

यहा गरीब को मरने
की जल्दी यूँ भी हैं।
के कही कफन महंगा ना हो जाए।

बस एक बात का मतलब
आज तक समझ नहीं आया।
जो गरीब के हक के लिए
लड़ते हैं वो अमिर कैसे बन जाते हैं।

यूँ गरीब कह कर खुद
की तौहीन ना कर ऐ बंदे।
गरीब तो वो लोग हैं
जिनके पास ईमान नहीं है।

कभी कपड़े के
तन पर अजीब लगती हैं।
अमीर बाप की बेटी गरीब लगती हैं।

किस्मत को खराब बोलने वालो ।
कभी किसी गरीब के पास
बैठ के पुछना जिंदगी क्या हैं।

अमीर के छत पे बैठा
कव्वा भी मोर लगता हैं।
गरीब का भुखा
बच्चा भी चोर लगता हैं।

यू न झाँका करो
किसी गरीब के दिल में।

के वहा हसरतें
वेलिबास रहा करती है।

अ़शक उनकी आँखों के करीब होते हैं।
रिश्ते दर्द के जिसको होते हैं।
दौलत अपने दिल की लुटा दी है जिसने।
कोई कहते हैं कि वो गरीब होते हैं।

सर्दी, गर्मी, बरसात और
तूफ़ान मैं झेलता हूँ,
गरीब हूँ… खुश होकर
जिंदगी का हर खेल खेलता हूँ।

तुम रूठ गये थे जिस
उम्र में खिलौना न पाकर,
वो ऊब गया था
उस उम्र में पैसा कमा-कमा कर।

हे ईश्वर तुमने जिन्दगी
इतनी जटिल क्यु बनाई,
कि गरीब दो वक्त के
रोती के लिए तरस रहे हैं…….!!

कभी आंसू कभी ख़ुशी बेची,
हम गरीबों ने दुःख बेची,
चंद भर सांसे खरीदने के लिए
रोज थोड़ी-थोड़ी सी जिन्दगी बेची…….!!

अमीरों के शहर में ही गरीबी दिखती है,
छोड़ दो ऐसा शहर जहाँ हवा बिकती है।

गरीबी का एहसास जब
दिल में उतर जाता है,
गरीब का बच्चा जिद
करना भी भूल जाता है।

यूँ गरीब कहकर खुद
की तौहीन ना कर ए बदें ,
गरीब तो वो लोग है
जिनके पास ईमान नही।

Gareebi Shayari In Hindi

Gareebi Shayari

भूख से बिलखते हुए वो फिर नहीं सोया ,
एक और रात भारी पड़ी गरीबी पर।

अमीर लोग तो साहब
सपने देखे है Raat को,
हम गरीब तो अपने बच्चों
के भूखे चेहरे देखते हैं…….!!

इस कम्बख़्त मौत ने
सारा फासला ही मिटा दिया,
एक अमीर को लाकर गरीब
के पास ही लिटा दिया………!!

अब मैं हर मौसम में
खुद को ढाल लेता हूँ,
छोटू हूँ… पर अब मैं
बड़ो का पेट पाल लेता हूँ।

भूखे की थाली में भी
अनाज होना चाहिए,
साहब !!! गरीबों के लिए
भी जिहाद होना चाहिए।

मैंने टूट कर रोते देखा नसीब को,
जब मुस्कुराते देखा मासूम गरीब को।

गरीबो को गले लगाता कौन है,
उनके दर्द में आँसू बहाता कौन है ,
उनकी मौत पर सियासत छिड़ जाती है,
उनके जीते जी इज्जत दिलाता कौन है।

दिमागी रूप से जो गरीब हो जाते है,
वही गरीबों का मजाक उड़ाते है।

उसकी गरीबी और
भूख का कोई अंदाजा तो लगाएं,
उसकी पीठ आतों से जाकर सटी हुई है।

उसने यह सोच कर अलविदा कह दिया।
गरीब लोग हैं मुहब्बत के सिवा क्या देंगे।

मोहब्बत भी सरकारी
नौकरी लगती हैं साहब,
किसी गरीब को मिलती ही नहीं।

हम गरीब लोग है
किसी को मोहब्बत के सिवा क्या देंगे ,

एक मुस्कराहट थी,
वह भी बेवफ़ा लोगो ने छीन ली।

Garaiaibi Shayari In Hindi

Dopahar Tak Bik Gaya Baajaar Ka Har Ek Jhooth ,
Aur Ek Gareeb Sach Lekar Shaam Tak Baitha Hee Raha.
Gareebee Ka Aalam Kuchh Is Kadar Chhaaya Hai,
Aaj Apana Hee Door Hota Najar Aaya Hai.

Gareebee Ban Gaee Tashheer Ka Sabab “Aamir” ,
Jise Bhee Dekho Hamaaree Misaal Deta Hai.
Jab Bhee Mujhe Jiyaarat Karanee Hotee Hai ,
Mai Gareeb Logo Mein Baith Aata Hoon.

Kabhee Jaat Kabhee Samaaj To Kabhee Aukaat Ne Luta,
Ishq Kisee Badanaseeb Gareeb Kee Aabaroo Ho Jaise.
Janaaja Bahut Bhaaree Tha Us Gareeb Ka,
Shaayad Saare Aramaan Saath Lie Ja Raha Tha.

Jo Chhip Gae The Chand Roz Kee Zindagee Kamaane,
Maut Ne Dhoondh Liya Unako Muflisee Ke Bahaane.
Yahaan Gareeb Ko Marane Kee Isalie Bhee Jaldee Hai Saahab,
Kaheen Jindagee Kee Kashamakash Mein Kafan Mahanga Na Ho Jae.

Ajeeb Sa Jaaduee Nasha Hota Hai Gareeb Kee Kamaee Mein,
Jisakee Rotee Khaakar Pathareele Raaston Par Bhee Sukoon
Kee Neend Aa Jaatee Hai. Saham Uthate Hain Kachche Makaan
Paanee Ke Khauph Se. Mahalonn Ki Aarajoo Ye Hain Ki Barasaat Tej Ho.

Bina Kisee Gaane Ke Rel Ke Injan Kee Dhun Par Naachate Hain,
Pataree Kinaare Bastee Mein Bachche Ab Bhee Muskaraana

Jaanate Hain. Kaise Muhabbat Karu Bahut Gareeb Hoon Saahab.
Log Bikate Hain Aur Main Khareed Nahin Paata. Naye Kapade,

Mithaeeyaan Gareeb Kahaan Lete Hai, Taalaab Mein Chaand
Dekhakar Eed Mana Lete Hai. Chehara Bata Raha Tha Ki
Maara Hain Bhookh Ne. Sak Kar Rahe The Ke Kuchh Kha Ke Mar
Gaya. Ameeree Peena Sikhaatee Hai, Gareebee Jeena Sikhaatee Hai,

Kabhee Ghaav Ho Jae,To Kavita Seena Sikhaatee Hai.
Jo Gareebee Mein Ek Diya Bhee Na Jala Saka. Ek Ameer Ka
Pataakha Usaka Ghar Jala Gaya. Bana Ke Taajamahal Ek
Daulatamand Aashik Ne Gareebon Kee Mohabbat Ka Tamaasha

Kar Diya. Gareebon Ke Bachche Bhee Khaana Kha Sake Tyohaaron
Mein. Tabhee To Bhagavaan Khud Bik Jaate Hain Bajaaro Mein.
Rajaee Kee Rut Gareebee Ke Aangan Mein Dastak Detee Hai ,
Jeb Garam Rakhane Vaale Thand Se Nahin Marate.

Garaiaibi Shayari In Hindi

Eai Maut Zara Pahale Aana Gareeb Ke Ghar ,
Kafan Ka Kharch Davaon Mein Nikal Jaata Hai.
Chheen Leta Hain Har Cheez Mujhase Ye Khuda.
Kya Too Mujhase Bhee Jyaada Gareeb Hain.
Bahut Jaldee Sikh Leta Hoon Zindagee Ka Sabak.

Gareeb Bachcha Hoon Baat Baat Par Jidd Nahin Karata.
Hamane Kuchh Aise Bhee Gareeb Dekhe Hain ,
Jinake Paas Paison Ke Alaava Kuchh Bhee Nahin.
Kya Kismat Paee Hai Roteeyo Ne Bhee Nivaala Banakar,

Rahiso Ne Aadhee Phenk Dee, Gareeb Ne Aadhee Mein

Jindagee Guzaar Dee. Jara See Aahat Par Jaag Jaata Hai
Vo Raato Ko. Ai Khuda Gareeb Ko Betee De To Daravaaja Bhee De.
Yaha Gareeb Ko Marane Kee Jaldee Yoon Bhee Hain.

Ke Kahee Kaphan Mahanga Na Ho Jae. Bas Ek Baat Ka
Matalab Aaj Tak Samajh Nahin Aaya. Jo Gareeb Ke Hak Ke
Lie Ladate Hain Vo Amir Kaise Ban Jaate Hain. Yoon Gareeb
Kah Kar Khud Kee Tauheen Na Kar Ai Bande. Gareeb To Vo Log
Hain Jinake Paas Eemaan Nahin Hai. Kabhee Kapade Ke
Tan Par Ajeeb Lagatee Hain. Ameer Baap Kee Betee Gareeb Lagatee Hain.

Kismat Ko Kharaab Bolane Vaalo . Kabhee Kisee Gareeb Ke
Paas Baith Ke Puchhana Jindagee Kya Hain. Ameer Ke Chhat Pe
Baitha Kavva Bhee Mor Lagata Hain. Gareeb Ka Bhukha Bachcha
Bhee Chor Lagata Hain. Yoo Na Jhaanka Karo Kisee Gareeb Ke
Dil Mein. Ke Vaha Hasaraten Velibaas Raha Karatee Hai.

AShak Unakee Aankhon Ke Kareeb Hote Hain.
Rishte Dard Ke Jisako Hote Hain. Daulat Apane Dil Kee Luta
Dee Hai Jisane. Koee Kahate Hain Ki Vo Gareeb Hote Hain.
Sardee, Garmee, Barasaat Aur Toofaan Main Jhelata Hoon,

Gareeb Hoon… Khush Hokar Jindagee Ka Har Khel Khelata Hoon.
Tum Rooth Gaye The Jis Umr Mein Khilauna Na Paakar,
Vo Oob Gaya Tha Us Umr Mein Paisa Kama-Kama Kar.
He Eeshvar Tumane Jindagee Itanee Jatil Kyu Banaee,

Ki Gareeb Do Vakt Ke Rotee Ke Lie Taras Rahe Hain…….!!
Kabhee Aansoo Kabhee Khushee Bechee,
Ham Gareebon Ne Duhkh Bechee, Chand Bhar Saanse
Khareedane Ke Lie Roj Thodee-Thodee See Jindagee Bechee…….!!

Ameeron Ke Shahar Mein Hee Gareebee Dikhatee Hai,
Chhod Do Aisa Shahar Jahaan Hava Bikatee Hai.
Gareebee Ka Ehasaas Jab Dil Mein Utar Jaata Hai,
Gareeb Ka Bachcha Jid Karana Bhee Bhool Jaata Hai.

Yoon Gareeb Kahakar Khud Kee Tauheen Na Kar E Baden ,
Gareeb To Vo Log Hai Jinake Paas Eemaan Nahee.

Garaiaibi Shayari In Hindi

Bhookh Se Bilakhate Hue Vo Phir Nahin Soya ,
Ek Aur Raat Bhaaree Padee Gareebee Par.
Ameer Log To Saahab Sapane Dekhe Hai Raat Ko,
Ham Gareeb To Apane Bachchon Ke Bhookhe Chehare
Dekhate Hain…….!! Is Kambakht Maut Ne Saara Phaasala Hee Mita Diya,

Ek Ameer Ko Laakar Gareeb Ke Paas Hee Lita Diya………!!
Ab Main Har Mausam Mein Khud Ko Dhaal Leta Hoon,
Chhotoo Hoon… Par Ab Main Bado Ka Pet Paal Leta Hoon.
Bhookhe Kee Thaalee Mein Bhee Anaaj Hona Chaahie, Saahab !!!

Gareebon Ke Lie Bhee Jihaad Hona Chaahie.
Mainne Toot Kar Rote Dekha Naseeb Ko,
Jab Muskuraate Dekha Maasoom Gareeb Ko.
Gareebo Ko Gale Lagaata Kaun Hai,
Unake Dard Mein Aansoo Bahaata Kaun Hai ,
Unakee Maut Par Siyaasat Chhid

Jaatee Hai, Unake Jeete Jee Ijjat Dilaata Kaun Hai.
Dimaagee Roop Se Jo Gareeb Ho Jaate Hai,
Vahee Gareebon Ka Majaak Udaate Hai.

Usakee Gareebee Aur Bhookh Ka Koee Andaaja To Lagaen,
Usakee Peeth Aaton Se Jaakar Satee Huee Hai.
Usane Yah Soch Kar Alavida Kah Diya.
Gareeb Log Hain Muhabbat Ke Siva Kya Denge.

Mohabbat Bhee Sarakaaree Naukaree Lagatee Hain Saahab,
Kisee Gareeb Ko Milatee Hee Nahin.
Ham Gareeb Log Hai Kisee Ko Mohabbat Ke Siva Kya Denge ,
Ek Muskaraahat Thee, Vah Bhee Bevafa Logo Ne Chheen Lee.

Final Word

दोस्तों हमने आपको यहाँ सभी तरह की Gareebi Shayari In Hindi दी है आपको Best Gareebi Shayari
In Hindi या आप इससे रिलेटेड शायरी ढूंढ रहे है तो आप बिलकुल सही जगह आय है यहां पे आपको Gareebi
Shayari In Hindi, Gareebi Shayari In Hindi 2022, हिंदी में गैरीबी शायरी में से कोनसी शायरी बेस्ट
लगी हमे कमेंट करके जरूर बताए इसी तरह की और पोस्ट व शायरी के लिए हमारी इस वेबसाइट को बुकमार्क कर
ले।

Shayari In Hindi :- Click Here

Related Articles

Back to top button