Love Shayari

अपनी कलम से लिखूं वो लफ़्ज़ हो तुम, अपने दिमाग से सोच लूँ वो ख्याल हो तुम, अपनी दुआओ
में मांग लूँ वो मन्नत हो तुम, और जिसे हम अपने दिल में रखते हैं वो चाहत हो तुम।

Love Shayari


भंवर से निकल कर एक किनारा मिला है, जीने को फिर एक सहारा मिला है, बहुत कश्मकश में थी
ये जिंदगी मेरी, अब इस जिंदगी में साथ तुम्हारा मिला है।

Love Shayari


नज़रो को तेरे प्यार से इंकार नही है, अब मुझे किसी और का इंतज़ार नही है, मैं खामोश हूँ तो वो वजूद है मेरा, लेकिन तुम ये न समझना मुझे तुमसे प्यार नही है।

Love Shayari


क्यों किसी से इतना प्यार हो जाता है, एक दिन का भी इंतज़ार दुष्वार हो जाता है, अपने भी लगने लगते हैं पराये, जब एक अजनबी पर एतवार हो जाता है।

Love Shayari


दिल पर आये इल्ज़ाम से पहचानते हैं, अब लोग तो मुझे तेरे नाम से पहचानते हैं।

Love Shayari


Previous page 1 2 3 4 5 6 7 8 9 10 11 12 13 14 15 16 17 18 19 20 21 22 23 24 25 26 27 28 29 30 31 32 33 34 35 36 37 38 39 40 41 42 43 44 45 46 47 48 49 50Next page

Related Articles

Back to top button
;
Close