Love Shayari

Love Shayari 2020

ये कातिलाना मौसम,
उफ़ ये ज़ालिम हवाएं,
और ये बारिश का समां,
काश आज कोई जादू हो जाये,
और दीदार-ऐ-महबूब हो जाये।


उस चाय के प्याले की भी क्या बात है,
जो सुबह होते ही तेरे होठो को चूम लेता है।


कैसे लफ़्ज़ों में बया करूं
खूबसूरती को तुम्हारी,
नूर का झरना भी तुम हो,
और इश्क का दरिया बजी तुम हो।


हमे तो रहा तकने से मतलब है,
मसला तुम्हारा है कही से भी आ जाओ।


उम्र मत पूंछो उनकी जो
इश्क में खोये रहते है,
वो हर वक्त जवां रहते हैं,
जो महबूब की आँखों में खोये रहते हैं।


Previous page 1 2 3 4 5 6 7 8 9 10 11 12 13 14 15 16 17 18 19 20 21 22 23 24 25 26 27 28 29 30 31 32 33 34 35 36 37 38 39 40 41 42 43 44 45 46 47 48 49 50 51Next page
Back to top button
Close