Love Shayari

Love Shayari

मैं आज भी तुमसे उतनी
ही मोहब्बत करता हूँ
जितनी पहले करता था,
इसलिये नही की मुझे
कोई और नही मिली,
बल्कि इसलिये क्योंकि
मुझे तुमसे मोहब्बत करने
से कभी फुर्सत ही नही मिली।


एक आवाज़ है जो मेरे
कानो में हमेशा गूंजती रहती है,
वो एक चहरा है जो
हमेशा मेरी आँखों के
सामने आ जाता है,
पर मैं हमेशा उसे
बताने से डरता हूँ,
की ये जो आवाज़ है
ये जो चहरा है वो
किसी और का नही तुम्हारा है।


तुम्हारे इश्क से बना हूँ मैं,
तुम्हारे इश्क से बना हूँ मैं,
पहले जिन्दा था,
पर अब जी रहा हूँ मैं।


मेरे दिल को जुवां और
आँखों को सपने मिल गये,
आशिकी में तेरी मेरी
जिंदगी को मायने मिल गये।


मुझे यकीन है की मै
सिर्फ इसलिये जन्मा हूँ,
की मैं तुम्हें प्यार कर सकूँ,
और तुम सिर्फ इसलिये
की मैं तुम्हें अपना बना सकूँ।


Previous page 1 2 3 4 5 6 7 8 9 10 11 12 13 14 15 16 17 18 19 20 21 22 23 24 25 26 27 28 29 30 31 32 33 34 35 36 37 38 39 40 41 42 43 44 45 46 47 48 49 50 51Next page
Back to top button
Close